क्या सिर्फ मोदी ही स्वच्छ भारत मिशन की विफलता के जिम्मेदार हैं ??

स्वच्छ भारत अभियान या स्वछता की रैली आये दिन रोज हो रही है। हो भी क्यों न, जागरूक करने में कोई बुराई नहीं है, समाज की पहचान ही स्वास्थ्य और स्वच्छता के स्तर से होती है। जिस समाज के लोग गन्दगी में रहते हों और स्वास्थ्य के स्तर पर कमजोर हों उन्हें सभ्य या विकसित कैसे कहा जा सकता। स्वच्छ समाज ही स्वस्थ रहता है, देश स्वच्छ होगा, तो स्वस्थ और समृद्ध होगा।

21768316_181556235723414_1555441289867608372_nवास्तव में इस अभियान में सफलता तभी मिलेगी, जब हम इसे सिर्फ फोटो प्रदर्शित करने के लिये नहीं, बल्कि स्वछता की आदत को व्यवहार में लाने पर ही संभव होगा।22050249_134388640625599_3182349428536495923_nमुझे आज भी याद है वह घटना जब मैं अपनी ६ साल की बेटी के साथ लखनऊ से अयोध्या आ रही थी। रास्ते में बस भिटरिया के एक ढाबे पर आ कर रुकी। मेरी बेटी ने चाट खाने के लिए कहा, मैं बस से उतर कर बेटी को चाट दिलाई। वहां पर और भी पढ़े लिखे सभ्य लोग भी चाट खा रहे थे। मैंने देखा कूड़ादान होने के बावजूद भी लोग पत्तलों को इधर उधर ही फेंक रहे थे। New Oneमैंने अपनी बेटी को सिखाने के बावजूद उसने भी लोगों की देखा देखी पत्तल जमीन पर फेंक दिया, मैं उसके तरफ देख कर बोली,अपनी पत्तल उठाओ और प्लेट में डालो।
बेटी: मम्मी ! और लोगों ने भीं तो इधर ही फेंका है।
मैं : तो क्या हुआ, पर तुम कूड़ेदान में ही फेंकोगी।
बेटी: सॉरी मम्मी! अगली बार से जरूर ध्यान रखूंगी।
मैं : जी नहीं, अभी पत्तल उठाओ और कूड़ेदान में डाल कर आओ।
बेटी: पर मम्मी, अभी अंकल-आंटी और सब लोग देख रहे हैं।
मैं: तो क्या हुआ ये अच्छी आदत नहीं है।
बेटी:माँ सब लोग इधर ही फेंक रहे थे तो मैंने भी फेंक दिया।
मैं: लोग कुछ भी करेंगे तो आप भी वही करोगे, फिर सब लोगों में और तुम में फर्क क्या रहेगा ?20882086_1327963627300808_2870486644063944591_nमेरे स्ट्रिक्ट होने पर बेटी ने इधर उधर देखा और फिर उदास मन से पत्तल को उठा कर कूड़ेदान में डाल दिया पर और लोगों ने अपनी जूठी पत्तल इधर उधर फेंकी हुई थी, अब उनका चेहरा देखने लायक था।
लेकिन बाद में जो हुआ वो देख कर सारे बड़े लोग हैरान थे, बचे लोग जो चाट खा रहे थे उन लोगों ने पत्तल को कूड़ेदान में डाला।
मुझे देख कर आत्म संतोष हुआ, और मेरी बेटी बहुत खुश थी।
वास्तव में कभी कभी हमारे जीवन की छोटी छोटी घटनाएं, लोगों को बहुत कुछ सीखा देती हैं।
मेरे द्वारा अपने बेटी को दी गयी यह छोटी सीख, लोगों पर इतना असर दिखाएगी ये मुझे मालूम नहीं था।
हमे अपने बच्चों को ये संस्कार देना चाहिए की लोग कुछ भी करें पर हमें अपना काम सही करना है।
हम हमेशा दूसरों को दोष् देते रहते हैं, लेकिन अगर हम खुद ये पहल करें तो क्या मोदी, क्या योगी, क्या राहुल, क्या अखिलेश, देश तो अपने आप स्वच्छ हो जायेगा।

मैं दावे के साथ कह सकती हूँ की अगर ऐसा किया जाये तो बच्चों का योगदान सबसे ज्यादा होगा।

11054365_10204806753466014_2032811769657961861_nकिसी भी देश को उसकी सरकार स्वच्छ नहीं बना सकती,जब तक देश का हर नागरिक उसके लिए जागरूक नहीं होगा।ssssआये दिन लोग मोदी, मनमोहन राहुल या फिर योगी, अखिलेश, मायावती को दोष् देते रहते हैं की स्वच्छ भारत मिशन फेल हो गया, सरकार कुछ नहीं करती इत्यादि।

सही मायने में मिशन नहीं हम फेल हुए हैं। ये हमारी विफलताओं का कारण है की देश में सफाई नहीं है। 

शहर के कुछ जागरूक युवा सफाई करते हुए !!

 

27750514_1923325807996992_6903249701223068210_n

गुरु नानक इंस्टीटूशन्स, नागपुर के स्टूडेंट्स का सफाई अभियान !!

Guru Nanak Institutions, Nagpur

समाज के जागरूक लोग सफाई अभियान को सफल बनाते हुए, हमे इनके कार्यों की प्रसंशा करनी चाहिए !!

27867162_201628940573423_5229248797284092729_n

Author & Writer : Mrs. Sujata & Khas Press Team

Advertisements

2 comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s